वासना की अग्नि -2

जब उनकी हथेली चूचियों पर से गुज़रती तो वे दबती नहीं बल्कि स्वाभिमान में उठी रहतीं। मास्टरजी को स्वर्ग का अनुभव हो रहा था। इसी दौरान उन्हें एक और अनुभव हुआ जिसने उन्हें चौंका दिया, उनका लिंग अपनी मायूसी त्याग कर फिर से अंगडाई लेने की चेष्टा कर रहा था। मास्टरजी को अत्यंत अचरज हुआ। उन्होंने सोचा था कि दो बार के विस्फोट के बाद कम से कम १२ घंटे तक तो वह शांत रहेगा। पर आज कुछ और ही बात थी। उन्हें अपनी मर्दानगी पर गरूर होने लगा। चिंता इसलिए नहीं हुई क्योंकि प्रगति का सिर ढका हुआ था और वह कुछ नहीं देख सकती थी। मास्टरजी ने अपने लिंग को निकर में ही ठीक से व्यवस्थित किया जिस से उसके विकास में कोई बाधा न आये।

जब तक प्रगति की आँखें बंद थीं उन्हें अपने लंड की उजड्ड हरकत से कोई आपत्ति नहीं थी। वे एक बार फिर प्रगति के पेट के ऊपर दोनों तरफ अपनी टांगें करके बैठ गए और उसकी नाभि से लेकर कन्धों तक मसाज करने लगे। इसमें उन्हें बहुत आनंद आ रहा था, खासकर जब उनके हाथ बोबों के ऊपर से जाते थे। कुछ देर बाद मास्टरजी ने अपने आप को खिसका कर नीचे की ओर कर लिया और उसके घुटनों के करीब आसन जमा लिया। अपना वज़न उन्होंने अपनी टांगों पर ही रखा जिससे प्रगति को थकान या तकलीफ़ न हो।
मास्टरजी के घर से चोरों की तरह निकल कर घर जाते समय प्रगति का दिल जोरों से धड़क रहा था। उसके मन में ग्लानि-भाव था। साथ ही साथ उसे ऐसा लग रहा था मानो उसने कोई चीज़ हासिल कर ली हो। मास्टरजी को वशीभूत करने का उसे गर्व सा हो रहा था। अपने जिस्म के कई अंगों का अहसास उसे नए सिरे से होने लगा था। उसे नहीं पता था कि उसका शरीर उसे इतना सुख दे सकता है। पर मन में चोर होने के कारण वह वह भयभीत सी घर की ओर जल्दी जल्दी कदमों से जा रही थी।

जैसे किसी भूखे भेड़िये के मुँह से शिकार चुरा लिया हो, मास्टरजी गुस्से और निराशा से भरे हुए दरवाज़े की तरफ बढ़े। उन्होंने सोच लिया था जो भी होगा, उसकी ख़ैर नहीं है।

यह कहानी भी पड़े  सर्दी के मौसम में पापा ने मेरे दोनों छेद चोद डाले

“अरे भई, भरी दोपहरी में कौन आया है?” मास्टरजी चिल्लाये।

जवाब का इंतज़ार किये बिना उन्होंने दरवाजा खोल दिया और अनचाहे महमान का अनादर सहित स्वागत करने को तैयार हो गए। पर दरवाज़े पर प्रगति की छोटी बहन अंजलि को देखते ही उनका गुस्सा और चिड़चिड़ापन काफूर हो गया। अंजलि हांफ रही थी।

“अरे बेटा, तुम? कैसे आना हुआ?”

“अन्दर आओ। सब ठीक तो है ना?” मास्टरजी चिंतित हुए। उन्हें डर था कहीं उनका भांडा तो नहीं फूट गया….
अंजलि ने हाँफते हाँफते कहा,”मास्टरजी, पिताजी अचानक घर जल्दी आ गए। दीदी को घर में ना पा कर गुस्सा हो रहे हैं।”

मास्टरजी,”फिर क्या हुआ?”

अंजलि,”मैंने कह दिया कि सहेली के साथ पढ़ने गई है, आती ही होगी।”

मास्टरजी,”फिर?”

अंजलि,”पिताजी ने पूछा कौन सहेली? तो मैंने कहा मास्टरजी ने कमज़ोर बच्चों के लिए ट्यूशन लगाई है वहीं गई है अपनी सहेलियों के साथ।”

अंजलि,”मैंने सोचा आपको बता दूं, हो सकता है पिताजी यहाँ पता करने आ जाएँ।”

मास्टरजी,”शाबाश बेटा, बहुत अच्छा किया !! तुम तो बहुत समझदार निकलीं। आओ तुम्हें मिठाई खिलाते हैं।” यह कहते हुए मास्टरजी अंजलि का हाथ खींच कर अन्दर ले जाने लगे।

अंजलि,”नहीं मास्टरजी, मिठाई अभी नहीं। मैं जल्दी में हूँ। दीदी कहाँ है?” अंजलि की नज़रें प्रगति को घर में ढूंढ रही थीं।

मास्टरजी,”वह तो अभी अभी घर गई है।”

अंजलि,” कब? मैंने तो रास्ते में नहीं देखा…”

मास्टरजी,”हो सकता है उसने कोई और रास्ता लिया हो। जाने दो। तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो।”

मास्टरजी ने अंजलि से पूछा,”तुम चाहती हो ना कि दीदी के अच्छे नंबर आयें? हैं ना ?”

अंजलि,”हाँ मास्टरजी। क्यों? ”

मास्टरजी,”मैं तुम्हारी दीदी के लिए अलग से क्लास ले रहा हूँ। वह बहुत होनहार है। क्लास में फर्स्ट आएगी।”

अंजलि,”अच्छा?”

मास्टरजी,”हाँ। पर बाकी लोगों को पता चलेगा तो मुश्किल होगी, है ना ?”

अंजलि ने सिर हिला कर हामी भरी।

मास्टरजी,”तुम तो बहुत समझदार और प्यारी लड़की हो। घर में किसी को नहीं बताना कि दीदी यहाँ पर पढ़ने आती है। माँ और पिताजी को भी नहीं…. ठीक है?”

यह कहानी भी पड़े  प्यार की नयी परिभाषा

अंजलि ने फिर सिर हिला दिया…..

मास्टरजी,”और हाँ, प्रगति को बोलना कल 11 बजे ज़रूर आ जाये। ठीक है? भूलोगी तो नहीं, ना ?”

अंजलि,”ठीक है। बता दूँगी…। ”

मास्टरजी,”मेरी अच्छी बच्ची !! बाद में मैं तुम्हें भी अलग से पढ़ाया करूंगा।” यह कहते कहते मास्टरजी अपनी किस्मत पर रश्क कर रहे थे। प्रगति के बाद उन्हें अंजलि के साथ खिलवाड़ का मौक़ा मिलेगा, यह सोच कर उनका मन प्रफुल्लित हो रहा था।

मास्टरजी,”तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो !”

“बाद में खाऊँगी” बोलते हुए वह दौड़ गई।

अगले दिन मास्टरजी 11 बजे का बेचैनी से इंतज़ार रहे थे। सुबह से ही उनका धैर्य कम हो रहा था। रह रह कर वे घड़ी की सूइयां देख रहे थे और उनकी धीमी चाल मास्टरजी को विचलित कर रही थी। स्कूल की छुट्टी थी इसीलिये उन्होंने अंजलि को ख़ास तौर से बोला था कि प्रगति को आने के लिए बता दे। कहीं वह छुट्टी समझ कर छुट्टी न कर दे।
वे जानते थे 10 से 4 बजे के बीच उसके माँ बाप दोनों ही काम पर होते हैं। और वे इस समय का पूरा पूरा लाभ उठाना चाहते थे। उन्होंने हल्का नाश्ता किया और पेट को हल्का ही रखा। इस बार उन्होंने तेल मालिश करने की और बाद में रति-क्रिया करने की ठीक से तैयारी कर ली। कमरे को साफ़ करके खूब सारी अगरबत्तियां जला दीं, ज़मीन पर गद्दा लगा कर एक साफ़ चादर उस पर बिछा दी। तेल को हल्का सा गर्म कर के दो कटोरियों में रख लिया। एक कटोरी सिरहाने की तरफ और एक पायदान की तरफ रख ली जिससे उसे सरकाना ना पड़े। साढ़े १० बजे वह नहा धो कर ताज़ा हो गए और साफ़ कुर्ता और लुंगी पहन ली। उन्होंने जान बूझ कर चड्डी नहीं पहनी।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


xxxhot tether SirXXX didi ki chudai in divalisex storywwwxxxxbhai bhn ka sexआंटी और बेटा बालकनी मे चुदाई सेकस कहानिchacheri behan ko kapde badalte dekha baad mai chudai ki sexy storyMom new grou sexy khaniबुर,की,लीलाchudti ladkiyo ki khasiyat kya hewww.मावशीच्या जबरदस्ती sax कथा .comTAI KI CHUDAI KI KHANIYAbatroom me naggi ladki pakdi chudaikhaniyabhai bahan ki rajai me chudai xxx hindi storyKarsanji ki kahaniyan hindi meमलमल जैसी चुत फोटोअदिती बहु चुदाई sasur se dewar ki sadi me sex kahani/bhaiya-se-apni-chudai-karai-6/sexstoryneeluसोना चुदाईsexkhaniya ssur kisexstorieuncalबहु पङोशिसे चूदवाति havili sax baba antarvasnaKMLA.SEXXXXभाभी.ससुराल.ने.पैरो.कि.मालिश.करने.के.बहाने.चोदाprofessor nay bhan ko choda sex stories Hindiबच्चू xxxwww.comhindi coda codi gngi pr aur cadi parबीबी ने स्वपिंग सेक्स का मजा दियाविध्वा मा की चुदाई बेटा ने किया जालीदार गाउन लाया सेक्स स्टोरी गोदी में बैठantervsna auntkhet me pesab karti maa ki khani hindi me majedarHindi sexy mausi asceticdidi ko jaanbhujhkar lora dikaya bschpsn msi sex storySex Hindi stories kamwalibai majburihindi sex kahani shabi बीवी की चुदाई का बदला कहानीदीदी की तेल मालिश कर चोदा ससुराल मै बरशात की रातमेरी बहन मेरे साथ सो रही थी मैंने उसके बूब दबाये सेक्स स्टोरी हिंदीma ki chudae xxxkhaniyaहोली ग्रपा की चूदाईKachchi kali ko khilaya pornमेरी नज़र उसके कांख पर थी और जैसे ही उसने अपने हाथ उठाए मैंने देखा storyAntarvasna in hindi papa ki parisari walli bhabhib athroom pusseyसेक्स नोकर और बिबिराज शर्मा की जाल सेक्सी कहानीantarvasana usha kiमौसी कि चूतसेक्सी स्टोरीज गुप्त रोग डाँक्टर को चोदासकसी मुवी की गाड मरवते हुऐMeri sasdi ek bachche ke baap se hui jo vidhur hi suhagraat storieschhiti bhua chud gaiki hindi khaniपायल चुत चाटीbeizzat mat karo hindi sex storiesलड़की चुतअमी को ईद पर चोदारात को भं की गांड में लंड रगडा अनजान बनकरअब्बू अम्मी के साथ चुड़ाई का दिनपूछि सेक्स videoचुत मे लंड फचा फचमोसी कीगांडLatest mosi bhua ki sath kamukata par hindi sexey kahaniya 2019 kimako coda badrumaa to z marathi sex storisfufa ne ki chachi ki chudai sexy storyबिबि चुदि गैर से ट्रेन मेgaon me bahuon ki samuhik chudaiनीग्रो से चूत चुदायी की कहानियाँviryaga khakar mota lamba land se choda kahanimummy ko choda 12 inch ke land se porn story hindigalio wali mast chudai ki kahaniyankachre bali gand sex story hindiHousewife ki chudai sexbaba.comगाँव में नंगी औरतों को नंगा देखा नदी के किनारे सेक्स storiesऔरत की चूत चाटके सेक्स videoसासुमा के चोदाअन्तर्वासनाmarwdi babi xexहिदी मी xxxBp videoसहेली के पति से चुदाकर बदला लीHINDI SEX NEWLADKEYमौसी के मोटे चुतडsaxy kahaniya hindi me bahan ke bra se pocha बुर लड सुमन सील टूटाबहु पङोशिसे चूदवाति Veerey aane wala sexy videoGhar per bhuaaki chuddai video