परिवार मे चुदाई – ये कैसा ससुराल

डॉली अपने गाँव छोड़ कर अपनी ससुराल भरतपुर आयी थी, उसके कई सपने थे जैसे कि एक बड़ा घर हो बड़ा परिवार हो. ससुराल में सब लोग उसे प्यार करें, उसका पति उसे इज्ज़त दे. और वैसा ही हुआ भी – उसके पति के तीन भाई और दो बहने थी. उसके पति दीपक शहर में एक फैक्ट्री में कार्यरत थे. उसके दो देवर थे – विजय और करण. विजय एमएससी कर रहा था और करण बारहवीं कक्षा का छात्र था और इंजीनियरिंग कि तैयारी कर रहा था. उसकी पति की बड़ी बहन श्रेया शहर में ब्याही थी. और छोटी बहन दिया बी ए कर रही थी. श्रेया का विवाह हो चुका था और उसके दो बच्चे थे.
जब डॉली घर से चली उसकी माँ ने उसे सारे घर को जोड़ कर रखने की सीख दी. उसे ये भी बताया कि वो घर कि सबसे बड़ी बहु है और उसे घर चलाने के लिए काफी मेहनत करनी होगी. कई समझौते करने होंगे. उसे कुछ ऐसा करना होगा कि तीनों भाई मिल जुल के रहें और उसे बहुत माने.अ.
डॉली घूघट संभाले इस घर में आयी. जैसा होता है उसे शुरू शुरू में कुछ समझ में आ नहीं रहा था. उसकी सास उसे जिसके पैर छूने को कहती वो छु लेती. जिससे बात करने को कहती वो कर लेती इतना बड़ा परिवार था इतने रिश्तेदार थे कि कुछ ठीक से समझ नहीं आ रहा था कि कौन क्या है. उसे उसकी सास ने समझाया कि घबराने कि कोई बात नहीं है. धीरे धीरे सब समझ आने लगेगा.
और फिर उसकी जिन्दागी में वो रात आई जिसका हर लडकी को इंतज़ार रहता है. वो काफी घबराई हुई थी. उसे उसकी ननदों ने उसे सुहागरात के बिस्तर पर बिठा दिया. रात उसके पति दीपक कमरे में आया. दीपक काफी हैण्डसम जवान था – गोरा रंग मंझला कद अनिल कपूर जैसी मून्छे और आवाज दमदार. दूध वगैरह कि रस्म होने के बाद कुछ तनाव का सा माहौल था.
दीपक ने चुप्पी तोडी और बोला, “अब हम पूरे जीवन के साथी हैं हमें जो भी करना है साथ में करना है.”
डॉली ने बस हाँ में सर हिला दिया.
दीपक ने मुस्कुराते हुए बोला, “चलो अब हम वो कर लें जो शादीशुदा लोग आज कि रात करते हैं”
मामता को समझ आ गया कि दीपक उसकी जवानी के मजे लूटने कि बात कर रहा है. उसने एक बार फिर शर्माते हुए हाँ में सर हिला दिया.
दीपक को डॉली कि ये शर्मीली अदा बड़ी भाई. वो उसे बाहोँ में भरने लगा, उसे गाल पे चूमने लगा और अपने हाथों से उसके पीठ और पेट का भाग सहलाने लगा. डॉली के लिए ये नया अनुभव था. उसे अभी भी डर लग रहा था पर मज़ा आ रहा था.

नयी नवेली दुल्हन डॉली
पाठकों को बता देना चाहता हूँ कि, डॉली एक बहुत सुन्दर चेहरे कि मालिक थी. उसका कद पांच फूट तीन इंच था. वह गोरी चिट्टी थी. चेहरा गोल था. होठ सुन्दर थे. आँखें सुन्दर और बड़ी बड़ी थीं. उसकी चुंचियां सुडौल और गांड भारतीय नारियों की तरह थोडा बड़ी थी. कुल मिला कर अगर आपको वो नग्नावस्था में मिल मिल जाएँ तो आप उसे चोद कर खुद को बड़ा भाग्यवान समझेंगे. उसके गाँव में कई लौंडे उसके बड़े दीवाने थे. कई ने बड़ी कोशिश की, कई कार्ड भेजे, छोटे बच्चों से पर्चियां भिजवाईं, कि एक बार उसकी चूत चोदने को मिल जाए. पर डॉली तो मानों जैसे किसी और मिट्टी कि बनी थी. उसने किसी को कभी ज्यादा भाव कभी नहीं दिया. वो अपने आप को अपने जीवन साथी के लिए बचा कर रखना चाहती थी. और आज इस पल वो जीवन साथी उसके सामने था.
दीपक अपने हाथ उसकी चुन्चियों पर ले आया और लगा सहलाने. उसने अपने होंठ डॉली के होंठों पर रख दिये और लगा डॉली के यौवन का रसपान करने. दीपक उसके चुन्चियों को धीरे धीरे दबाने लगा. वो अपना दूसरा हाथ उसके चूत के ऊपर था. दीपक डॉली कि चूत को कपडे के ऊपर से ही सहलाने लगा. डॉली दीपक कि इस करतूत से बेहद गर्म हो चुकी थी. उसने अभी तक चुदाई नहीं की थी पर उसकी शासिशुदा सहेलियां थीं जिन्होंने उसे शादी के बाद क्या होता है इसका बड़ा ज्ञान दिया था उसे. डॉली दीपक का पूरा साथ दे रही थी और उसके होठों पर होंठ रख के उसे पूरा चुम्मा दे रही थी. उसने अपनी आँखे बंद कर रखीं थी, उसे होश नहीं था बिलकुल. इसी बीच उसने ध्यान दिया कि दीपक बाबू ने उसकी साड़ी उतार दी है और वह बस पेटीकोट और ब्लाउज में बिस्तर मे लेटी हुई है. दीपक ने उसका पेटीकोट उठा दिया. उसकी केले के खम्भें जैसी जांघे पूरी साफ़ सामने थीं. दीपक ने अपना हाथ उसकी चड्ढी के अन्दर डाल दिया और उसकी मखमली झांटें सहलाने लगा. दीपक कि एक उंगली कि गीली हो चुकी चूत में कब घुसी डॉली को बिलकुल पता नहीं चला. डॉली को बड़ा मज़ा आ रहा था इसका अंदाजा दीपक को इस बात से लगा गया कि वो अपनी गांड हिला हिला कर उसकी उंगली का अपनी चूत में स्वागत कर रही थी.
दीपक ने अपने स्कूल के दिनों में मस्तराम कि सभी किताबें पढीं थीं. उन किताबों से जो ज्ञान प्राप्त हुआ था आज उसका वो पूरा प्रयोग अपनी नयी नवेली पत्नी पर कर रहा था. डॉली की गर्मी को हुये दीपक ने उसकी चड्ढी उतार फेंकी. ब्लाउज और ब्रा के उतरने में भी कोई भी समय नहीं लगा. अब डॉली केवल एक पेटीकोट में उसके सामने लेटी हुई थी. उसके मम्मे बड़े ही सुन्दर थे.
दीपक ने कहां, “जब सामने इतनी सुन्दर नारी कपडे उतार के लेटी हो, तो मुझ जैसे मर्द का कपडे पहन कर रहना बड़े ही शर्म कि बात है”.
डॉली इस बात पर मुस्करा दी. दीपक ने अपन सारे कपडे उतार फेंके. डॉली ने दीपक के सुडौल शरीर को देखा. दीपक का लैंड ६ इंच से कम नहीं होगा. वो एकदम तना हुआ था. डॉली की चूत दीपक के आसमान कि तरफ तने लौंडे को देख कर उत्तेजना में बजबजा सी गयी. मन हुआ कि बस पूरा एक कि झटके में पेल ले अपनी गीली चूत में और जम के चुदाई करे, पर नयी नवेली दुल्हन के संस्कारों ने उसे रोक लिया.
दीपक उसके पास आया और उसे एक बार होठों पर होठ रख के जोर से चुम्मा लिया.
फिर बड़े शरारती अंदाज़ में बोला, “इतनी बात इन होठों को चूमा है इस शाम. अगर दुसरे होठों को नहीं चूमा तो बुरा माँ जायेंगे जानेमन.”
डॉली बड़ी कशमकश में थी कि उसके दुसरे होंठ कहाँ हैं. पर जब दीपक ने उसकी पेटीकोट उठा के उसकी चूत पर जब अपना मुंह रखा तो उसे साफ़ समझ आ गया कि दीपक का क्या मतलब था. उसने अपनी सहेली के साथ ब्लू फिल्म देखी थी जिसमें एक काला नीग्रो एक अंग्रेज़ औरत कि चूत को चाटता है. पर उसे ये नहीं गुमान था कि हिन्दुस्तानी मर्द ऐसा करते होंगे. वो ये सब याद ही कर रही थी कि दीपक ने उसकी चूत का भागनाशा अपने मुंह में ले कर उसे चूसना चुरू कर दिया. फिर वो चूत कि दोनों तरफ की फाँकें चाटने लगा. फिर अपनी जीभ उसकी चूत के छेद में दाल कर अपनी जीभ से उसे चोदने लगा. डॉली इस समय सातवें आसमान पर थी. उसने सपने में भी कल्पना नहीं की थी कि ये सब इतना आनंद दायक होगा. उसकी चूत से प्रेम रस बह कर बाहर आने लगा और उसकी गांड के छेद के ऊपर से बहने लगा. दीपक अपनी जीभ को डॉली के अन्दर बाहर कर रहा था साथ ही उसने अपनी छोटी उंगली को गीला कर के डॉली की गांड में डाल दिया. डॉली आनंदातिरेक में सीत्कारें भर रही थी. उसे यह सब एक सपने जैसा लग रहा था.
दीपक ने अपनी जीभ डॉली कि चूत से निकाल ली और उसका पेटीकोट खींच कर उतार फेंका. वो डॉली के बगल में आ कर बैठ गया. और डॉली को इशारा किया अपने लण्ड कि तरफ. डॉली समझ गयी कि उसकी चूत कि चटवाने का बदला अब उसे चुकाना है. वो झुक कर आनंद के लंड पर अपन मुंह ले गयी और अपने होठों से उसका सुपाडा पूरा अपने मुंह में ले लिया. दीपक के लण्ड में एक अजीब सी महक थी जो उसे उसे पागल किये जा रही थी. वो अपने होंठों को ऊपर नीचे कर के उसका लंड को लोलीपॉप कि भांति उसे चूसने लगी. दीपक तो जैसे पागल हो उठा. उसकी नयी नवेली दुल्हन तो मानों कमाल कर रही थी. उसने अपनी एक उंगली डॉली कि गांड में पेल दी और लगा उसे उंगली से चोदने. डॉली को दीपक का उंगली का अपनी गांड में चोदना बड़ा अच्छा लग रहा था. वो जोरों से उसका लौंडा चूसने लगी. सारे कमरे में चूसने कि आवाजें गूँज रहीं थीं.
इसी बीच दीपक ने उसका मुंह अपने लंड से उठाया और उसे सीधा दिया. फिर डॉली कि टांगों को चौड़ा कर के उसने अपने लंड का सुपादा उसकी गीली और गर्म चूत में घुसा दिया.
“कैसा लग रहा है मेरी रानी” दीपक ने पूंछा.
“पेलो राजा पेलो बड़ा मज़ा आ रहा है” डॉली ने बोला.
फिर क्या कहना था. दीपक ने अपना लंड अगले झटके में पूरा डॉली कि गुन्दाज़ चूत में पेल दिया. और लगा अपनी कमर को हिलाने. डॉली कि चूत तार तार हो गयी थी दीपक के इस हमले से. वो मजे में चीख रही थी. वो अपनी गांड जोरों से हिला रही थी ताकि दीपक के धक्कों का पूरा आनंद पा सके. दीपक उसकी चुन्चियों को चाट रहा था दबा रहा था. डॉली दीपक के ६ इंच के लौंडें को अपनी जवान चूत में गपागप समाते हुए देख रही थी. उसे यकीन नहीं हो रहा था कि चुदाई इतनी मजेदार होगी.
दीपक ने इसी बीच अपना लंड निकाल लिया और उसे पलट के अपनी गांड उठाने को बोला. डॉली थोडा डर गयी. दीपक का लंड काफी मोटा था. अगर उसने उसे गांड में घुसेड दिया तो गांड में बड़ा दर्द होगा. पर अब क्या कर सकती थी. वो उलटा हो कर कुतिया के पोस में हो गयी. दीपक घटनों के बल उसकी चूतडों के पीछे बैठ गया. उसने थोडा थूंक निकाल कर अपने लंड पर लगाया और लंड को डॉली कि चूत के मुहाने पर टिका के एक झटके में पूरा का पूरा लंड डॉली कि चूत में पेल दिया. दीपक का लंड अपनी चूत में पा कर डॉली की जान में जान आई. आज गांड मरते मरते बच गयी. कुतिया बन के चुदवाने का मज़ा ही कुछ और था. बड़ा आनंद आ रहा था. वो अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए दीपक का लंड अपनी चूत में गपागप लेने लगी. दीपक उसकी पीठ पर जोरों से चुम्मा ले लेता, अपने हाथों से डॉली कि चुंचियां दबा देता. और गांड पर चिकोटियां काट देता.
दोनों की साँसे भारी हो गयीं थीं. दीपक के झटके बड़े तेज़ हो गए डॉली भी अपनी गांड हिला हिला के उसका पूरा पूरा लंड अपनी चूत में पिलवा रही थी. चूत मस्त गीली थी. सारे कमरे में चप-चप की आवाज़ गूंज रही थी. और सारे कमरे में चूत और लंड कि जैसे महक भर सी गयी थी. डॉली कि चूत से पानी दो बार छूट चूका था. पर दीपक तो बस अपना लंड पेले जा रहा था. अब तीसरी बार वो झड़ने वाली थी.
“आह मैं गयी …मेरा होने वाला है….”कहते हुए वो झड गयी.
दीपक भी अब झड़ने वाल था. उसका लंड उत्तेजना में डॉली कि गीली चूत के अन्दर मोटा फूल सा गया था. वो जोरों से अपना लंड पेलने लगा.
“आह ….आह …ये ले मेरी रानी ….मेरा अपनी चूत में पहला पानी ले……”
और एक अंतिम झटका लगाया और वो झड गया. डॉली ने महसूस किया कि बहुत सारा गरम पानी उसकी चूत के अन्दर जैसे बह रहा है. झड़ने के बाद दीपक डॉली की पीठ के ऊपर ही मानों गिर गया.
“कैसा लगा मेरी रानी” दीपक ने पूछा.
“बहुत मज़ा आया मेरे राजा”, डॉली ने हँसते हुए जवाब दिया.
दीपक का लंड अभी भी डॉली कि चूत के अन्दर था. झड़ने के बाद तो छोटा हो कर बाहर निकल आया. डॉली कि चूत से दीपक का वीर्य और उसकी अपनी चूत का पानी बाहर बह कर आने लगा.
दोनों बिस्तर पर थक के गिर गए. डॉली ने तौलिये से उसे साफ़ किया.
दीपक और डॉली ने एक बार फिर से किस किया. डॉली कपडे बिना पहने दीपक की बाहोँ में दीपक का लंड अपने हांथों में ले कर नंगे ही सो गयी..
डॉली सुहागरात के बिस्तर पर पूरी नंगी हो कर अपने पति दीपक कि बाहो में मस्त सो रही थी. सुहागरात की रात दीपक ने उससे पहले आगे से चोदा और फिर कुतिया बना के पीछे से चोदा. इस चुदाई के प्रोग्राम के दौरान डॉली तीन बार झड़ी. उसकी शादीशुदा सहेलियों ने उसे बताया था कि सेक्स में बड़ा बजा है, पर इसमें इतना मज़ा होगा ये उसे आज रात पता चला.
चुदाई की थकान से नींद इतनी गहरी आयी कि सुबह के पांच बज कब गए थे पता ही नहीं चला. डॉली की सास का अलार्म बजा और डॉली की नींद खुल गयी. सो कर उठी तो उसने देखा कि वो ऊपर से नीचे तक पूरी कि पूरी नंगी है और बगल में दीपक भी नंग धडंग लेटा हुआ है. उसे बड़ी शर्म सी आयी. वो उठी और उसने जल्दी जल्दी अपने कपडे पहने और कमरे से बाहर निकल गयी.
डॉली किचेन में गए और अपनी सासु माँ के पैर छु लिए. सासु माँ ने उसे आशीर्वाद दिया. डॉली चाय बनाने में अपनी सास कि मदद करने लगी. बीच बीच में रात की चुदाई की याद सी आ जाती थी और उस याद से उसकी चूत में बड़ा अजीब सा ही अहसास हो रहा था.
“मैं तेरे पापा जी के लिए चाय ले जाती हूँ, तू दीपक के लिए चाय ले जा.” उसकी सास सुजाता देवी ने कहा.
“जी मम्मी जी”, डॉली ने जवाब दिया.
डॉली चाय ले कर अपने बेडरूम में आई. दीपक अभी भी बिस्तर पर नंगा हो कर मस्त सो रहा था. डॉली ने दीपक को हिलाया. दीपक ने अपनी आँखे खोलीं तो देखा कि डॉली उसके लिए चाय ले कर आई है.
डॉली को देखते ही दीपक रात की चुदाई याद आ गयी. डॉली कि गोल और चौड़ी गांड कि याद करते ही उसका लंड झट से खड़ा हो गया.
डॉली खड़े लंड को देख कर वक्त का इशारा समझ गयी. सास ससुर जगे हुए थे. मामला थोडा रिस्की था. डॉली ने कमरे कि सिटकनी बंद कर दी. और दीपक के ऊपर बैठ गयी. उसने अपनी साड़ी ऊपर उठा ली और अपनी जवान चूत को दीपक के लंड के ऊपर भिड़ा दिया. डॉली ने अपनी चूत को दीपक के लंड के ऊपर रख कर आपने शरीर का वज़न जैसे ही छोड़ा दीपक का पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में समा गया.
“रात में आपने मेरे ऊपर चढ़ कर जो किया न आज उसका बदला मैं निकालूंगी.” डॉली फुस्गुसाते हुए बोली.
“पिलवाओ रानी पिलवाओ”, दीपक बोला.
डॉली को अपने बेशर्मी पर हैरानी हो रही थी. पर समय कम था. इसलिए जल्दी जल्दी अपने गुन्दाज़ चुतड दीपक के लंड को अपनी चूत में पेले हुए ऊपर नीचे करने लगी.
दीपक का लंड डॉली कि गीली चूत में समा रहा था. जब डॉली अपनी गांड उठाती, दीपक का चमकता हुआ लंड उसे नज़र आता. दीपक डॉली के मम्मे दबा देता. उसकी गांड पर चपत रसीद देता. डॉली कि चौडी गांड दीपक के लंड के ऊपर नीचे हो रही थी.

यह कहानी भी पड़े  मासूम बच्चे की ख्वाहिश

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!


marathi sex katha bhai sangita didirandi ki shayri chodo pelo wala in hindiMa pesab hindi sex stories rajsharmaदो लंड एक साथ कहानीगाँव की आँटी ने कहा निचे लेटा कर चुत मारदीदी की चुत के साथ हनीमून सिखायाkerayedar ke chutफौजी चाचा चाची चुतbhoot hot sexxxxx jbrdstसेक्सी चुदक्कड़ पेशाब पीने वाली औरत की कहानीचुचीSasur ne bhabhu choda stroy/nurse-ne-chud-kar-mere-lund-ka-checkup-kiya/2/ओह बेटी की जगह माँ चुद गईमाँ कि गाङ मारी साथअंतर्वासना ट्रेन में च**** अजनबी के साथmaa.beti or mousi ki chudai story sole sal chut chudai sex vidiyoले ले रण्डी साली कुत्ती रांड ले मेरा लंड तेरी मस्त चुत मेंkali chut vali orat ki kahaniKhani xxxx muth mar for gsyसहलाने लगातेरा बुर अछा है मैं चोदुगा Taaihindisexstorykamla ki cuday xxx kahaniBra ki huk khol bhai se chudai अन्तर्वासनाbihari ne chodahindi anal sex storieschalate truk me mummy chud gayiचूत में लंडमेरे बुर को चोद कर प्यास बुझाईमामी को लण्ड के झटकेनँगी करके चोदते गुरुप मे कथाडॉक्टर से चुदवाया खुद कोGaon me chudai sexbaba.comXxx bahi bhen stanpan hindi khanisas dmad sxiy khaney gande galeपुच्चीतbra.salesman.khani.xxxChudai karte karte duwa nikl geachorni ki hindi sex khaniyaxnxxxindcomमेरी जब आँख खुली तो देखा कि मैं अस्पताल में था hindi sex storछाया दीदी की चोदन की कहनी मेट्रो chudai xx video.comoffice me sab chudti hainअन्तर्वासना रिस्तो में चुड़ै गेट किसी को तन का मिलन चाहिएAantarvasna. Com badi sali ki chudayimere pyare bahnje choda oh yes bete sexstoriesantervasna wife and sister shapingwww.antervasanasexstory.comचुदाई कहानी 1 टाईमBiwi Holi me nangi kahaniघर में सलवार खोलकर पेशाब पिलाने की सेक्सी कहानियांरखेलचूदाईMaa ka gangbang dhekha kahaniचुतसे विरियFagua me rang aur chudai kahani/village-sex-gav-beta-sahar-ladki-15/6/vidhwa makanmalkin bhabhi ki wasana ki kahanichut marwane wali sexy badhiya badhiya bhej do Jo chut mein laudaछिनाल मम्मी की गैंगबैंग चुदाईदेवर भाभी की सिसकी होट बाथरूम की मूवीMeri mousi ki randipana randiyo ki taraDono samdhi bibi ki adla badli kar chodawww sex hindi vavi xxx video haltakarmashab ne medam ki choodai ki kahaniदो बहनो की चुदाई कहानी शहरी भाभी की चुदाई कथाहोटल के मालिक से चुदी Hindi sex storyma.ki.siltor.kar.chudai