ससुर बहू का मिलन-3

बाबूलाल ने सोचा की कमला देवी को प्रणाम करता चले, सो वो मेहमान कच्छ की तरफ जाने लगा. पास में गया तो उसने देखा की मुनिया उनके कमरे में झाँक रही है. चूँकि वह मुनिया के पीछे से आ रहा था, वह देख नहीं पाया की मुनिया का हाथ घाघरे के अन्दर क्या कर रहा है. कमरे के अन्दर की आवाजें सुन कर वो समझ गया की मुनिया क्या देख रही है. बाबूलाल की नज़र कई दिनों से मुनिया पर थी. वह बिना कोई आवाज किया मुनिया के पीछे जा के खड़ा हो गया और पंजों के बल उचक कर खड़े हो कर उसने अन्दर कमरे का नज़ारा लिया. उसे लगा की मुनिया कई महीनों से अपने पति के बिना रह रही है, अन्दर का दृश्य देख कर वो गरम हो गयी होगी. लोहा गरम है, तो क्यों न हथोडा मारा जाए. इसी समय बाबूलाल ने ध्यान दिया की मुनिया अपनी चूत रगड़ रही है.

बाबूलाल मन ही मन मुस्करा रहा था की इतने दिनों से जो मौका वो चाहता था वो ऊपर वाले ने इतनी आसानी से दे दिया. उसने पीछे से आ कर अपने हाथ मुनिया के मस्त उरोजोा (चुचियों) पर रख दिए. मुनिया एक दम से चौंक कर हटी. उसने अपना हाथ अपने घाघरे से इतनी तेजी से निकाल की घाघरे का नाडा टूट गया और घाघरा खुल कर कमर से खिसक कर उसकी चिकनी जाँघों से फिसलते हुए जमीन पर जा गिरा. मुनिया ने भागने की कोशिश की पर बाबूलाल ने फुर्ती से उसका हाथ पकड़ लिया.

बाबूलाल फुफुसाया, “देख मुनिया, अगर मैंने मालिक को बता दिया की तू उन्हें कैसे देख रही थी, सो उसी वक़्त तेरी नौकरी ख़तम. बाकी मुझे देख कर ही तेरा घाघरा गिर गया और तू नंगी मेरे सामने खडी है. इसे ऊपर वाले की मर्ज़ी समझ.”

यह कहानी भी पड़े  माँ का भोसड़ा और दादी की गांड चोदी

“मुझे जाने दो…मुझे छोड़ दो…” मुनिया ने गुहार लगाई.

पर मन ही मन शायद मुनिया आज चुदवाना चाह रही थी. संतोष उसका पति तो था. पर अब वो मुनिया में कोई रूचि नहीं दिखाता था. उसे उसकी सहेली ने बताया था की मिल के मजदूर जब इतने लम्बे टाइम तक शहर में रहते हैं, तो अपना कुछ इन्स्तेजाम वहां का भी देख लेते हैं.

बाबूलाल मुनिया का हाथ अभी भी पकडे हुए था. उसे पता था की अब अगर इसे छोड़ा तो वो भा जायेगी और बाद में मालिक से शिकायत करेगी. उसकी खुद की नौकरी जायेगी और समाज में बदनामी अलग से होगी. मुनिया का जो हाथ पकड़ रखा था, उसने उसकी उँगलियाँ चाटनी शुरू कर दीं. उँगलियों से मुनिया की चूत की महक आ रही थी. उँगलियों पर लगे चूत के रस से बाबूलाल को ये अंदाजा हो गया की मुनिया की चूत गीली हो चुकी है. मतलब मुनिया मूड में थी. उसने मुनिया को खींच कर उसका चुम्मा ले लिया. उसके हाथ मुनिया के सारे बदन पर रेंग रहे थे. इससे मुनिया और भी गरम हो गयी.

मुनिया को अब थोडा थोडा मज़ा आ रहा था. उसने मुनिया को खिडकी के पास खड़ा किया ताकि वो अन्दर का खेल देखना फिर से चालू कर सके. मुनिया इस समय कमर के नीचे से पूरी नंगी थी. बाबूलाल नीचे फर्श पर मुनिया की टांगों के नीचे बैठ गया और मुनिया की जवान चूत चाटने लगा. मुनिया ने थोड़े देर पहले मालिक को ये काम करते हुए देखा था. उसे सोचा भी नहीं था की ५ मिनट के अन्दर उसे भी उसी तरह से अपनी चूत चटवाने का सौभाग्य मिलेगा जैसा की कमला देवी को मिला है. उसके पति ने चूत को कभी नहीं चाटा क्योंकी वो इसे निहायती गन्दा समझता था.

मुनिया जोर से सिसकारी भरना चाहती थी पर वो कोई आवाज निकाल कर ये खेल समय से पहले ख़तम नहीं करना चाहती थी.

यह कहानी भी पड़े  मेरी सेक्सी कजन्स की हॉट चुदाई

अन्दर कमरे में शमशेर कमला के बदन से उतर गया. कमला अपने घुटनों के बल आ गयी. शमशेर ने पीछे सी आया. उसका लंड कमला के मुंह में रहने की वज़ह से गीला था. शमशेर ने गप से उसे कमला की मोटी चूत में पेल दिया. कमला को ऐसे गपागप वाली पेलाई पसंद है.

“पेलो शमशेर भाई….मजा आ रहा है….आपकी अपनी बहन की चूत है….कुतिया बना के चोदो…..”

कमरे के बाहर बाबूलाल की बुर चटाई से मुनिया की बुर गीली हो चुकी थी. बाबूलाल उठा और नौ इंची लंड को मुनिया की बुर के मुहाने पे टिकाया. जब उसने अपना सुपाडा अन्दर पेला, मुनिया की बुर ख़ुशी से खिल उठी. वह कई महीनों ने चुदी नहीं थी. बाबूलाल ने दो तीन धक्कों में पूरा का पूरा लौंडा पेल दिया. बाबूलाल का लौंडा नौ इंच का था और मोटा भी था. और इतने लम्बे लंड को अपनी बुर में लेना साधारण औरतों के बस की बात नहीं हटी. मुनिया तो अभी 22 साल की थी जो संतोष के चार इंची की लंड से चुद रही थी. जैसे लंड पूरा अन्दर हुआ, मुनिया की चीख ही निकल गयी. ये तो अच्छा हुआ की बाबूलाल ने पहले से ही उसके मुंह पर हाथ रख दिए थे नहीं तो मालिक के चोदन कार्यक्रम में व्यवधान पक्का हो जाता. थोड़े देर तक बाबूलाल अपना लंड मुनिया की बुर में पेले शांत खड़ा था. इससे मुनिया की बुर की मांस पेशियों को थोडा फैलने का समय मिला.

Pages: 1 2 3 4 5 6 7

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


Taaihindisexstorybehen bani birthday gift Indian sex stories Antrwasna randi galiya dekar chudwate hबहन और भाई ने अपनी बहन की बूबस दबाया और लड़ा मारा garia budhiya ko choda hindi sex storyराजा रानी की सील तोड़ी कहानी क्सक्सक्स कॉमआरती की चुत की सील चोदी कहानीwww antarvasnasexstories com chudai kahani aunty chud bhi jao na part 3सेक्सी कहानी दीदी के गर्म बुर खुजलानेसहयोग से माँ से सैक्स कहानीमां को चुची दबाने लगाChuddakd बन गई माँ partsBhan ka gangbang chudai storyचुत mumसाड़ियां छोड़कर पजाबी कपडे sexXxx story in hindi maa banayaMujhe ragad kr pelomaptram.dot.comsamdhi ne samdhan aur naukrani ki choda sex storiesdubai se aai DiDi ki chuai bhibdi sex storyडोक्टर ने गाड मारी अन्तरवाशना कि कहानिChudai like lambi kahaniya Hindi sez storyभाभी चुदाइ सोने की नथHindi sex rajsarma maa beta comusne chudwakar chut dilwaiविधवा मौसी और उसकी बेटी को चोदा साtai ji ko bhrpur chodaNadan,sex,storiबहन को र्टेन में चोदा उसकी मर्जी सेपेट मे गुदगुदी-Written sexy Story Xxxantrvasna store comloda ki holi sex kahniगाङ दिखाती लङकी की फोटोदूकान मे रोज चोदता थानदी के किनारे नोकर और ड्राईवर ने चोदा part 2rajsharma maa. beta sesstoriesBeti ko khus kiya cxxx kahaniagudda bnkr chudaiचोद मुझे मै पयासी हुBahu ko chudvane ki kahaniहिदी मी xxxBp videoएकदम मादरजात नंगीsexstoryneeluantavashnaसर्दी का बहाना बनाकर भाई ने चोदा"mardana jism antervasnaमाँ ने बेटी चुदाईindian behan bhai baleckmel sex storystudent ki mammi ki chudaiantarwasba kahani aapa ki chudaie id menokarani bacha chaye xx kahaniचाची की अन्तर्वासनाmameri bhabhixxxhende kahani behn waiten thái lan porn ra nhiều nướcबीबी की चुदाई का सामूहिक. खेल कहानियोंmummy ki gangbang masti antarvasnapapa ne Sadi ki sexy Kahani rajsharma.compariwarik rishton me sex storiaapki payri भाभी का हिंदी sex sayaribus ma handi saxy kahaniaSex story meri mom abha part4KamleelaAnjan auntyki chudai sex kahani xxx picdalisexstorieबंद रूम मेरी सील तोड़ दीका नाड़ा खोल सेक्स स्टोरीजsex story mere प्यारे डैडी part 3Garbati Sexxxxxxxx kahneeरिमा चुत चुदाई कथाland ki buri me ghusai inhindi