मामी का दूध पिया 1

मामी ने पहले अपनी ब्रा का हुक लगाया| फिर मामी ने अपनी ब्लाउज के हुक लगाये| मामी ने फिर साड़ी पहनी| और मामी अपने कमरे से निकल कर बगल वाले कमरे में जाती हैं जहाँ बेटी और भांजी सो रहे थे| मामी बिस्तर के पास जाती हैं| मामी: “उठो मेरी बच्चियों…चलो ” बेटी: “माँ, सोने दो न…क्या तुम भी सुबह-सुबह जगाने चली आई?” मामी: “शैतान…उठ जा..दूध पीने का समय हूँ गया|” भांजी: “आंटी, अभी सोने के पहले ही तो तुमने हम दोनों को खूब देर तक स्तनपान करवाया था…|” मामी: “वो कल रात की बात थी….अभी सुबह भी तो दूध पिलाना है तुम लोगों को…मुझे बीच में आने दो|” मामी दोनों लड़कियों के बीच में लेट जाती हैं और बारी-बारी से दोनों को सर पे किस करती हैं| फिर मामी अपनी साड़ी का पल्लू हटाकर अपनी ब्लाउज प्रदर्शित करती हैं| मामी फिर अपनी हथेलियों से ब्लाउज जे ऊपर से ही अपने स्तन सहलाने लगती हैं| मामी: “ओह्ह..ये मेरे दूध से भरे स्तन….(मामी ब्लाउज की हुक खोलने लगती है और तीन हुक खोलने के बाद अपनी हथेलियाँ ब्रा के अन्दर घुसती हैं)…आ जाओ….बच्चियों..मेरी छाती पर अपने सर रखो|” मामी ने अपनी ब्रा और ब्लाउज अपने स्तनों के पूरे ऊपर खींच दी और दोनों लड़कियों के सरों को अपने हाथ से सहारा देकर उनके चेहरों को अपने प्रदर्शित स्तनों पर रख दिया| लड़कियां अपने हाथों से मामी के स्तनों को मसलने लगी| मामी सिसकियाँ भरने लगीं| बेटी: “ओह माँ, तुम्हारे स्तन तो दिन-ब-दिन आकार में और बड़े होते जा रहे हैं|” भांजी: “और इनमें दूध की मात्र भी बहुत ज्यादा बढ़ गयी है|” मामी: “तुम दोनों मेरे स्तनों को मसलते ही रहोगी या फिर अपना मुंह खोलकर मेरी चूचियां भी चूसोगी|” दोनों लड़कियों ने अपने दोनों हाथों में मामी का एक-एक स्तन पकड़कर दबाने लगीं और एक-एक चूची अपने मुंह में डाल ली और अपना सर तेज़ी से ऊपर-नीचे करके चूसने लगीं| मामी: “ओह्ह मेरी बच्चियों…..चूसो मेरी चूचियां….जोर-जोर से दबाव मेरे स्तन….खूब पीयो मेरा दूध…..(पांच मिनट तक इसी तरह दूध चूसने के बाद लड़कियां चूचियां छोड़ देती हैं)….क्या हुआ लड़कियों…अभी तो तुम्हे अपनी माँ और अपनी आंटी का ढेर सारा दूध चूसना है (लड़कियां सांस लेने के लिए अपना मुंह खोले हुए थी जिसमे मामी अपनी उँगलियों के बीच में स्तनों के गोले के पास वाला भाग रखकर चूचियां घुसा देती हैं और फिर अपने स्तन दबाने लगती हैं..चूचियों से दूध निकलते ही दोनों लड़कियां भी अपने होठों से बल लगाकर चूचियां चूसने लगती हैं) आह..आह..लड़कियों..मैं अपने स्तन जोर से दबा रही हूँ और तुम दोनों मेरी चूचियां जोर से चूस रही हो…दूध बहुत तेज़ी से बह रहा है….(पांच मिनट तक इसी तरह दूध चूसने के बाद लड़कियां मामी की चूचियां मुंह से निकल देती हैं)…बच्चियों..थोडा और चूसो मेरा दूध…तुम लोग इतना काम दूध पियोगे तो…किसके लिए इतना सारा दूध पैदा करती हूँ मैं….(मामी की बात सुनकर दोनों लड़कियों ने मामी के दोनों स्तनों को अपने दोनों हाथों से ज़कड़ लिया और मामी के स्तनों को गूंधने लग गयी| मामी भी अपने स्तनों को गोलों के पास अपनी उँगलियों से जोर से दबाने लगीं..दोनों लड़कियां होठों के बीच मामी की चूचियां लेकर जोर-जोर से दबाने लगी..और अपने सर ऊपर-नीचे कर के मामी की चूचियां खींचने भी लगी)ओह्ह…बच्चियों…मेरे स्तनों से दूध की धार बहुत तेज़ हो गयी है….आह..आह…पीते रहो इसी तरह मेरा दूध……आह..आह..(दस मिनट तक इसी तरह दूध पीने के बाद दोनों लड़कियां मामी की चूचियां होठों से निकलकर और मामी के स्तनों से हटाकर जोर-जोर से सांस लेने लग जाती हैं)|” बेटी: “बस, माँ, अब और दूध नहीं पिया जायेगा…|” भांजी: “ओह…मामी..कितना दूध है आपको स्तनों में….बीस मिनट तक हम दोनों ने इतनी जोर-जोर से आपकी चूचियां चूसी पर ऐसा लग रहा है कि आपके स्तनों में दूध ज़रा सा भी कम नहीं हुआ है|”

मामी बिस्तर से उठकर अपने स्तनों के ऊपर अपनी ब्लाउज खींचती हैं और साड़ी के पल्लू से ढककर दूसरे कमरे में जाने लगती हैं| दूसरे कमरे में मामी का बेटा और भतीजा सोये रहते हैं| मामी: “उठ जाओ मेरे बच्चों…सुबह हो गयी..|” भतीजा: “सोने दो ना, आंटी…अभी तो रौशनी भी नहीं हुई है|” बेटा: “हाँ, माँ, तुम रोज़ सुबह आकर में जल्दी जगा देती हो..|” मामी: “शैतानो..मुझे कुछ नहीं सुनना है तुम दोनों से…तुम दोनों उठकर मेरे स्तन चूस रहे हो बस..|” दोनों लड़के तकिये के अन्दर अपना सर घुसा लेते हैं| मामी बिस्तर पर दोनों बीच में जाकर बैठ जाती है और दोनों से तकिये छीन कर अपने पैरों पर रख देती हैं| दोनों: “ तुम बहुत गन्दी हो, माँ/आंटी|” मामी: “तुम दोनों को दूध पिलाए तो मैं यहाँ से हटने नहीं वाली तो अच्छा है कि तुम लोग मेरी बात मान कर सीधे-सादे तरीके से मेरी गोद में सर रख दो…..(दोनों मामी की गोद में रखे तकियों पर अपना सर रख देते हैं….मामी अपनी साड़ी का पल्लू हटा देती है)…..ज़रा मेरे स्तनों का आकार देखो बच्चों…इतने बड़े स्तनों वाली औरत तुम्हे दूध पिलाने के लिए तैयार है….(मामी अपनी ब्लाउज के सारे हुक खोलती हैं और फिर अपनी ब्रा को स्तनों के ऊपर खींच देती है….) मेरे दूध से भरे इन भारी स्तनों को देखकर मज़े लो बच्चों…(मामी के नंगे स्तनों को देखकर दोनों लड़कों के मुंह अपने आप खुल जाते हैं जिसमें मामी अपनी चूचियां घुसा देती हैं…चूचियों के होठों को छूते ही दोनों बच्चे चूसना शुरू कर देते हैं..)ये हुई न बात मेरे बच्चों….मेरे स्तनों के स्वस्थ और स्वादिष्ट दूध को चूसो…..तुम दोनों नाटक बहुत करते हो….वैसे तो तुम्हे मेरे स्तनों का दूध पीना अच्छा नहीं लगता…लेकिन जैसे ही मैं अपने स्तनों को नंगा करती हूँ, तुम दोनों झट से दूध पीने लगते हो (मामी फिर स्तनों के गोले के पास अपनी उँगलियाँ रखकर स्तनों को दबाना शुरू कर देती हैं) लो बच्चों….अब मैं अपने स्तन भी दबा रही हूँ…इससे मेरी चूचियों से दूध तेज़ी से निकलने लगेगा….ठीक से दूध चूसना…कहीं सरक न जाओ तुम दोनों….ओह्ह…मेरे बच्चों…दूध पीते रहो……..(दस मिनट के बाद दोनों बच्चे भी अब दूध पीते पीते प्रवाह में आ गए थे…उन दोनों ने मामी की चूचियों को जोर-जोर से चूसना शुरू कर दिया)…..क्यों शैतानों…तुम्हे तो मेरा दूध पीना अच्छा नहीं न लगता था…फिर क्या हुआ…अब जोर-जोर से मेरी चूचियां क्यों चूसने लगे तुम दोनों…मेरा दूध चूसते चूसते और उत्तेजित हो गए न तुम दोनों..ओह्ह…मेरे बच्चों…तुम दोनों को कोई अंदाजा नहीं है कि जब तुम दोनों मेरी चूचियां जोर-जोर से चूसते हो तो मुझे कितना आनंद मिलता है…..” दस मिनट दोनों लड़के मामी की चूचियां छोड़ देते हैं और मामी के स्तनों से खेलने लगते हैं| मामी: “क्यों लड़कों, पेट और मन दोनों भर गया तुम दोनों का?” बेटा: “ओह माँ, पेट क्यों नहीं भरेगा?आपके स्तनों में इतना दूध जो पैदा होता है!” भतीजा: “हाँ चाची…इसके पहले आप प्रेम को और दोनों बहनों को भी अपने स्तनों का दूध पिलाकर आ रही होंगी और फिर हमें भी पिलाया पर अभी भी आपके स्तन दूध से पूरी तरह भरे हुए हैं|” मामी: “ये तो है बच्चों….मेरे स्तनों में बहुत दूध पैदा होता है….मैं तो तुम्हारी क्लास के हर बच्चे को दूध पिला सकती हूँ…….चलो अब दोनों उठो और मुझे किस दो|” दोनों लड़के मामी को एक-एक गाल पे किस देते हैं और मामी अपने स्तनों को ब्रा से ढकती हैं पर ब्लाउज के हुक नहीं बंद करती हैं और साड़ी के पल्लू को कर के बिस्तर से उतर जाती हैं| मामी अब चौथे कमरे में जाती हैं जहाँ सास लेटी रहती है| मामी बिस्तर के पास जाती है और बिस्तर का स्क्रू हिला कर बिस्तर को ऊँचा करती हैं| सास की आँख खुल जाती है| मामी इस तरह बिस्तर पर बैठ जाती हैं कि सास का चेहरा मामी की ब्लाउज के सामने होता है| मामी झट से अपनी साड़ी का पल्लू हटाकर अपनी ब्लाउज प्रदर्शित करती हैं जिसमे पहले से ही नीचे के तीन हुक खुले थे| मामी अपनी ब्रा के बांये फ्लैप के अन्दर अपना हाथ घुसा कर अपना बांया स्तन उघाड़ देती हैं और अपनी सूजी हुई बांयी चूची अपनी सास के खुले मुंह के अन्दर दे देती है जिसे सास किसी लालची बच्चे की तरह चूसने लगती है| सास मामी के दांये स्तन को ब्लाउज के ऊपर से ही सहला रही थीं और मामी अपने बांये स्तन को सहला रही थीं तभी मामी के पति आते हैं| सास मामी की चूची मुंह से निकल देती है| सास: “जल्दी आओ, अपनी बीबी के स्तनों का दूध चूसो..इसके स्तन तो अभी भी भरे हुए हैं…|” पति: “इसके स्तन तो हमेशा दूध से भरे रहते हैं…|” बिस्तर पर सास और मामी हल्का सा खिसकर पति के लिए जगह बनाते हैं और मामी अपनी ब्रा के ये फ्लैप के अन्दर हाथ घुसा कर दांया भी उघाड़ देती हैं| सास दांये स्तन और पति बांये स्तन को अपने हाथ में लेते हैं| सास: “इसका एक स्तन भी मेरे दोनों हाथों से ठीक से नहीं पकड़ा जाता|” फिर सास और पति दोनों अपने मुंह में मामी की चूचियां घुसकर लालची बच्चों की तरह दूध चूसने लगते हैं| सास और पति मामी के दोनों स्तनों को मसलने लग जाते हैं| मामी सिसकियाँ भरने लग जाती हैं और दोनों – सास और पति – चू-चू की आवाजें निकलकर दूध पीने लग गए| दस मिनट तक सास और पति दूध चूसते रहे और फिर दोनों ने चूचियां मुंह से निकल दी| सास: “पेट भर गया बस दस मिनट ही तुम्हारे स्तनों का दूध चूसने से|” पति: “हाँ, तुम्हारी चूचियों से दूध कितनी तेज़ी से निकलता है|” मामी: “तुम दोनों का तो पेट भर गया पर मेरे स्तनों में तो दूध ज़रा सा भी कम नहीं हुआ|” मामी फिर अपनी ब्रा को अपने स्तनों के आगे करती हैं और साड़ी के पल्लू से ब्लाउज ढकती हैं| मामी अब पांचवें कमरे में जाती है| मामी की ननद बाथरूम में होती हैं| मामी बिस्तर पर बैठ जाती हैं| मामी अपनी साड़ी का पल्लू अपनी ब्लाउज के आगे से हटा कर अपने हाथों से अपने स्तनों को सहलाने लगती हैं| मामी अपनी आँखें बंद कर के अपनी ब्रा के अन्दर हाथ डालकर अपने स्तनों को सहलाने लगीं| मामी: “आह…आह..ये मेरे स्तन जैसे दूध की टंकियां हैं….कितना भी दूध पिला लो, दूध ख़त्म ही नहीं होता है…सुबह-सुबह सत्तर मिनट प्रेम ने मेरी चूचियों को खींच-खींच कर और मेरे स्तनों को गूंध-गूंध कर खूब जोर-जोर से चूचियां चूसी….फिर मेरी बेटी और भांजी ने भी बीस मिनट तक खूब रगड़ कर मेरे स्तन चूसे…पर उसके बाद मेरे बेटे और मेरे भतीजे..फिर सास और पति ने जैसे आधे घंटे तक मेरी चूचियां तो चूसी पर मेरे स्तनों में दूध की मात्र में हलकी-सी भी कमी नहीं ला पाए|” तभी मामी की ननद बिस्तर पर आ जाती हैं और मामी के ब्रा के अन्दर घुसे हाथों पे अपने हाथ रख कर उन्हें बाहर खींचती हैं| ननद: “भाभी, तुम खुद अपने स्तनों को दबाओ, अच्छा नहीं लगता है…मुझे ये काम करने दो..वैसे भी मुझे तुम्हारे स्तनों का मर्दन करने में बड़ा मज़ा आता है|” ननद ब्रा के ऊपर से ही अपनी हथेलियों को मामी के स्तनों पे तेज़ी से फेरने लगती हैं| मामी को मज़ा आता है और वो सिस्कियाँ भरने लगती हैं| मामी: “खेलो मेरे स्तनों से..जी भर के खेलो|” ननद फिर अपनी हथेलियाँ को मामी की ब्रा के अन्दर घुसा कर मामी के स्तनों का मर्दन करने लगती हैं| ननद: “ओह्ह भाभी, ये तुम्हारे स्तन हैं या किसी मोटी गाय के भरी थन हैं|” मामी: “ये प्रेम भी मुझे गाय बोल रहा था और तू भी अभी गाय बोल रही है…लगता है कि मैं वाकई में गाय हो गयी हूँ|” ननद के स्तनों का मर्दन करने के कारण ब्रा के फ़्लैप्स ब्रा के फ्रेम से जिन हुक्स से टंगे हुए थे, वो खुल जाते हैं और मामी के स्तन झूलने लगते हैं| ननद फिर ब्रा के फ़्लैप्स को पूरा नीचे कर के मामी के दोनों स्तनों को पूरा उघाड़ देती हैं| ननद: “ओह भाभी…कितने सुन्दर हैं तुम्हारे ….अब मुझसे एक सेकंड और नहीं रुका जा रहा..मुझे तुम्हारे स्तनों का दूध चूसना है, भाभी|” मामी: “तो चूस न…किसने रोक रखा है तुझे?” ननद दोनों हाथों में मामी का बांया स्तन उठाती हैं और बहुत ही उत्सुकता से अपना मुंह मामी के स्तन पर रखकर चूची को मुंह में लेकर चूसने लगती है| बांयी चूची चूसते हुए ननद अपना सर हिला रही थी और दोनों हाथों से बांया स्तन दबा रही थी| पांच मिनट बाद ननद बांयी चूची छोड़कर दोनों हाथों में मामी का दांया स्तन उठाती हैं और बहुत ही उत्सुकता से अपना मुंह मामी के स्तन पर रखकर चूची को मुंह में लेकर चूसने लगती है| दांयी चूची चूसते हुए ननद अपना सर हिला रही थी और दोनों हाथों से दांया स्तन दबा रही थी| पांच मिनट तक इसी तरह मामी के स्तन चूसने के बाद ननद चूची छोड़ कर अलमारी से कुछ निकालने लग जाती है| मामी: “कहाँ चली गयी मेरी चूची चूसने के बीच में?” ननद पलट कर एक दो लीटर की बोतल और ब्रेस्ट पम्प दिखाती है| ब्रेस्ट पम्प टेबल पर रखकर ननद पम्प का स्विच ऑन कर देती है| ननद: “कॉलेज में भूख लगेगी तो क्या करूंगी…..तो इसीलिए आपके स्तनों से दो लीटर दूध दूह लूंगी ब्रेस्ट पम्प से|” मामी: “जितना मर्ज़ी दूह ले अपनी भाभी के स्तनों से दूध|” फिर ननद झट से मामी के दांये स्तन में पम्प का कप चिपका कर मामी के बांये स्तन को अपने दोनों हाथों से मसलते हुए बांयी चूची को मुंह में रखकर सर हिला-हिला कर दूध चूस रही थी| ब्रेस्ट पम्प के कप के खींचने के कारण मामी के दांये स्तन में उथल-पुथल हो रही थी| मामी जोर-जोर से सिसकियाँ भरने लगीं| पांच मिनट तक बांयी चूची चूसने और दांये स्तन से आधा लीटर दूहने के बाद ननद दांये स्तन से कप हटा देती हैं और फिर दूसरा कप बांये स्तन में चिपका कर मामी के दांये स्तन को अपने दोनों हाथों से मसलते हुए दांयी चूची को मुंह में रखकर सर हिला-हिला कर दूध चूस रही थी| ब्रेस्ट पम्प के कप के खींचने के कारण मामी के बांये स्तन में उथल-पुथल हो रही थी| मामी जोर-जोर से सिसकियाँ भरने लगीं…ननद चू-चू की आवाज़ निकल कर दूध चूस रही थी और ब्रेस्ट पम्प भी आवाज़ कर रहा था| पांच मिनट तक इसी तरह दूध चूसने और आधा लीटर दूध दूहने के बाद ननद दांयी चूची मुंह से निकल देती है पर झट से दांये स्तन पे पहला कप चिपका देती है| और दोनों कप से निकलने वाली पाइप ठीक से बोतल के अन्दर डालती है| ननद: “भाभी, मेरा पेट तो भर गया| पर जब तक तुम्हारे दूध से बोतल भर रहा है, तब तक मैं तुम्हारे स्तनों को गूंध कर मज़े तो ले लूं|” ननद मामी के पीछे जाकर बैठ जाती है और मामी के दोनों स्तनों का मर्दन करने लगती है| मामी: “आह..आह..तू भी न…मेरे दोनों स्तनों में ब्रेस्ट पम्प लगाकर दूध दूह रही है और फिर मेरे दोनों स्तनों से खेल भी रही है…आह…आह..मुझे बहुत आनंद आ रहा है….और जोर-जोर से दबा मेरे स्तनों को …आह..आह|” पांच मिनट बाद बोतल भरने के साथ ही ब्रेस्ट पम्प बंद हो जाता है| मामी दोनों कप अपने स्तनों से हटाती हैं और ननद मामी के स्तनों को दबाना बंद करती हैं| ननद मामी को किस करती है| मामी: “सात बज गए….अभी मुझे तुम लोगों के लिए ब्रेकफास्ट भी तैयार करना है….सब को लेकर आठ बजे डाइनिंग रूम में आ जाना|” मामी ने जल्दी-जल्दी में अपनी ब्रा के फ़्लैप्स को वापस हुक नहीं किया था और ब्लाउज के ही बाकी हुक बंद करके अपने स्तनों को ढककर डाइनिंग रूम में आती हैं| मामी: “चारों बच्चों और ननद के लिए आधा लीटर के कटोरे में कॉर्न फ्लेक्स….सास और पति के लिए तीन सौ मिलीलीटर के कटोरे में कॉर्न फ्लेक्स…..चारों बच्चों के लिए हॉर्लिक्स की एक लीटर की फ्लास्क में बारह बड़े चम्मच हॉर्लिक्स और ननद के लिए आधा लीटर की बोतल में ढाई सौ मिलीलीटर आम का जूस| प्रेम के लिए आधा लीटर के कटोरे में पोहा और एक गिलास में तीन चम्मच बौर्नवीटा| ये सब इकट्ठा करूँ फिर प्रेम को कहूंगी इन में मेरा दूध दूह देगा|” मामी जब डाइनिंग रूम में आती हैं तो देखती हैं कि वहां टेबल पर सारे कटोरे और गिलास सामान से भरे हुए हैं| मामी: “(खुश होकर)..ये तूने किया है, प्रेम?” मैं: “हाँ, मामी…आप सब के लिए ब्रेकफास्ट का सामान इकट्ठा करने में समय लगाती हैं और फिर मुझे जल्दी-जल्दी दूध दूहने के लिए कहती हैं जो कि मुझे बिलकुल पसंद नहीं है…कल मैं सिर्फ पांच मिनट आपका दूध चूस पाया था और पंद्रह मिनट में जल्दी-जल्दी आपका दूध भी दूहा था….आज मेरे पास एक घंटे का समय है…आज तो मैं आपके स्तनों का खूब सारा दूध चूसुंगा और फिर आराम से मज़े ले-लेकर आपका दूध दूहुंगा|” मामी: “ओह्ह मेरा बच्चा..मेरा प्रेम…ये तूने बहुत अच्छा किया….कल तेज़ी से जब तूने दूध दुहा था तो मेरी चूचियां दर्द करने लगी थी….ओह्ह…..ये साड़ी भी ढीली हो गयी..जल्दी-जल्दी में यहाँ आते-आते|” कहकर मामी अपनी हरी साड़ी खोलकर ज़मीन पर गिरा देती हैं|

यह कहानी भी पड़े  शिकस्त - एक चुदाई कहानी पार्ट - 1

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


पैदल चलते चलते दीदी को पेलाजिस्म की आग बुझाई- 4antarvasna momchora v chori ki chumne ki khanidaroo pilaje larkiyo ko chodne wala video/mumbai-ki-barish-maa-bete-ki-chudai/6/Phele chdaexxxMaa Bani Bhai ki Bivi sxci Khani. Com Incest chudaiki suruatland ka verya nekalne vali sex khaniमेरे नंगे लंड की मालिश कहानीबच्चू xxxwww.compooja ke bahane aurto ko chodte the baba hindi kahanimari chudhai bathroom m kiyaबुरचोदाइअंगुलीशेantarvasna maa ne saare kapde2018 ka six antrvsna hand maअब्बा के साथ सुहागरात की कहानीगांड मारने की कहानियाबहन ने गाड़ मारना सिखायाआंटी को कंडोम लगा के छोड़ा हिंदी स्टोरीचुत चोदो कुतिया बानकरअंटी की गाँड मे पेला मौटा लङ अंटी घबराई इमरा हासिमि की बहन सकसी xxxfat aurtoko xxx storyAslam ne mama banaya Chudai storysxyi storie hindhe busGaon me randi ki gand mari kachhii fadkarSuhagrat ki sexy video Dheere Dheere Kapda Utaraसूंदर सासु sex stroकुँवारी लड़की की चूत की फोटो अनेकMarathi sex stories dost mi maasex kahani boob massage hindi me kamukta sasurkirayedar ke sath meri chudai in mainpuri गए सेक्स स्टोरी पापा से गांड़ मरवाईपत्ति पत्नि का मजेदार सेक्स कहानीaunty ki malish k bbahane sexbidhwa ka ghamasan chudaiबरसात में माँ को छोड़ा सेक्स स्टोरीहिन्दी अंतरवसना सेक्सी फोटो कहानी सिस्टर जबरदस्त छोडा ब्लैक मेल कर मालिश माँ सेक्सी वीडियोसलन्ड को पकड़ कर चुदवाईsex stories in hindi in cycle by sasur/sasur-bahu-ka-milan-3/3/ma or neye papa ke suhagrat sax storisexsi anty ne khulkar nahayarajai me chhoti ladki se chudai ki kahaniyahotsexstory xyz kamuk mami ke sath majak me huyi chudai chachi ki chudaiचाची की चुत चाटने मजा आता हैsulekha tai ki nagi fotomhrasth x video comनोनवेज भाभी कि चूतचुसाई कहानिया हिन्दी मेpyasihi bahvi xxx vidio .comआनंद के साथ चुदाई मजा छुपकरsex stori in hindi newमाँ ने मौसी को मुझसे चूदाईxxxsawita bhabhi ka sapanashuhagrat pe gannd msrisex storyHabshi ne land chusaya sex storyउनकी गांड पर लन्ड रखकरlesbian sumi porn kahaniबेटा तेरा लंड चुस दु सेक्स कथाहिंदी गाड कहानी सगी maa or babaदो बहनो की चुदाई कहानी माँ को coll boy से चुदते देखाकुँवारी चूत बुरी तरहbhai bahan interview sex storiesसेक्सी माल की कहानीअमर कमला बेरहम सेकस कथाहिंदी भाई bhiane xxxxx वीडियोसंजू जी की चुदाई खुले खेत में विधवा मौसी और उसकी बेटी को चोदा साchacha.nachachi.ke.gand.fade.Hindi sex storyland dikha ke choda मां को नौकरानी को चोदते हुए पकड़ा हिंदी में कहानीdidi ki suhagraat ki chudai dekhi chupke se hindi kahani mazedarपड़ोस वाली लड़की की चुदाई मालिश के बाद सेक्स स्टोरीchoudashi haus waif .comma ko dost kee patni banaya storeepados vali bhabi ko chodaxx