पड़ोस की गर्म माल को मजे से चोदा

जवान लड़की की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरे पड़ोस में एक परिवार आया. उसमें एक जवान लड़की से मेरी दोस्ती हो गयी. मैंने उसे कैसे पटाकर चोदा.

मेरी कहानी आज से 2 साल पहले की है.
लेकिन जवान लड़की की चुदाई कहानी शुरू करने से पहले मुझे अपना परिचय देना चाहिए।

मेरा नाम मीत है। नाम बदल दिया गया है.
मैं एक सुंदर और रंगीन स्वभाव के साथ 6 फीट ऊंचाई का 24 साल का लड़का हूं।

मेरे परिवार में पिताजी, माँ और मैं केवल तीन लोग हैं। एक खुले दिमाग वाले परिवार में जन्मा, मैं बहुत ही जल्द बड़ा कमीना और चुदक्कड़ जिद्दी लड़का बन गया था।
हमारा घर बहुत ही अच्छे पॉश इलाके में था।
मेरे लंड का साइज़ 8” लम्बा 3” मोटा है।

मैं अन्तर्वासना का बहुत पुराना पाठक और बड़ा प्रशंसक हूँ।

तो यह 2 साल पहले की बात है जब मैं 22 साल का था। और थोड़े समय पहले एक नये पड़ोसी हमारे बगल में रहने के लिए आये थे।

उनके परिवार में भी हमारे जैसे 3 लोग थे लेकिन उनको एक लड़की थी। उसका नाम वाशी है. उसके पिता भी मेरे पिता के साथ भी काम करते हैं इसलिए हमारे घरों के बीच में अच्छी दोस्ती थी।

लेकिन जब मैंने वाशी को देखा तो मैं थोड़ी देर तक उसे देखता रह गया।
वह लगभग 19-20 साल की होगी. लेकिन उसके शरीर के उतार-चढ़ाव को देखकर मुझे ऐसा लग रहा था कि मानो कोई स्वर्ग से उतरी हूर हो।

हमारे परिवारों के बीच अच्छी दोस्ती के कारण मैं समय समय पर उनके घर जाता रहता था ताकि मैं उस हिरण नयनी कामिनी को देख सकूँ और उसके पास जाकर उसकी सुंदरता को अपनी आँखों से पी लूं।

हमारी दोस्ती हो गयी थी.

मैं हमेशा वाशी के तन मन को पाने की चाह रखता था। मैं उससे बात करता रहा और धीरे धीरे उसके बदना को यहाँ वहां छूना शुरू कर दिया।

उसने न तो गुस्सा किया और न ही ऐसा करने से मना किया जिससे मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैं उसे गंदे चुटकुले कहने लगा।
उसने भी बिना किसी शर्मिंदगी के बोलना और हंसना शुरू कर दिया।

तब मेरे दिमाग में उसके साथ सेक्स के अलावा कोई विचार नहीं आया। मैं सिर्फ उसके गर्म जिस्म को भोगना चाहता था.

और आखिरकार समाधान खुद मेरे पास आया।

जहाँ हमारे पापा काम करते थे. वहाँ से दो दिनों के टूअर की व्यवस्था की गई थी जिसमें सभी कर्मचारियों को जाना था, लेकिन केवल जोड़े में।

मतलब मेरे और वाशी के मम्मी पापा को दो दिनों के लिए जाना था.

यह सुनकर एक के बाद एक मेरे दिमाग में बहुत सारे विचार आने लगे कि मैं उन दो दिनों में वाशी के साथ कैसे और क्या करूँगा। वह भी तब जब हम दोनों अकेले हों।

इसलिए मैंने हम दोनों के मम्मी पापा से कहा कि आप निश्चिन्त रहें और हमें अकेला छोड़ दें. मैं इसकी अच्छी देखभाल करूंगा।
आखिरकार हम दोनों के मम्मी पापा सहमत हो गए और दौरे पर जाने के लिए तैयार हो गये।

अगली सुबह वाशी के मम्मी पापा वाशी को छोड़ने हमारे घर आए और दौरे पर चले गए।

अब वाशी और मैं दो दिन तक अकेले थे।

मैंने उससे नाश्ते पर बात करना शुरू कर दिया और साथ ही कभी-कभी उसके नर्म शरीर को जानबूझकर टच कर लेटा उसकी ओर से कोई रुकावट नहीं आई।

अब मुझे भी लगा कि पक्का वाशी की चुत आज मिल जाएगी. और इसी सोच से मेरा लंड खड़ा होने लगा।

मैंने एक योजना बनाई और दोपहर में वाशी को चोदने का फैसला किया।

दोपहर में जब खा पीकर वो बिस्तर पर गई तो मैं उसके कमरे में गया जहाँ वाशी सो रहा था.
मैंने देखा कि कमरा खुला था और वाशी भी एक छोटी सी स्कॅर्ट में और बहुत ही सेक्सी टी-शर्ट में सो रही थी।

मैं उसके पास गया और उसे अपनी वासना भरी आँखों से देखा।
मेरा लण्ड अकड़ने लगा और मैं उसके शरीर को अपने लंड से सलामी देने लगा।

यह कहानी भी पड़े  भाभी और मेरा चुदक्कद प्यार

मैं तुरंत उसकी तरफ गया और उसकी खुली नंगी जांघों को सहलाने लगा।

अब तो बस मैं वाशी को चोदना चाहता था.

मैंने उसके एक चुचे को जोर से दबाया. लेकिन इससे वाशी जाग गई और मेरी तरफ देखने लगी।

मैं बहुत डर गया और खड़ा हो गया. लेकिन मेरा तना हुआ लंड उठा था वह मेरे शॉर्ट्स से स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था।

मैं वहां से बस भागने ही वाला था कि तभी वाशी बोली- मीत, कहाँ जाता है? रूक!
और वह मुझसे पीछे से चिपक गयी।
मैं इतना दंग रह गया कि वाशी, जिसे मैं भोली-भाली समझ रहा था, वह मुझसे ज्यादा बिगड़ैल लड़की थी।

उसने मुझे इस तरह से पीछे से पकड़ लिया कि मैं हिल नहीं पा रहा था.
लेकिन मैं बिल्कुल भी दुखी नहीं थी और उसके बड़े-बड़े निप्पल मेरी पीठ पर टच हो रहे थे उसका मजा ले रहा था।

फिर वाशी बोली- बिना काम किए जा रहा है?
और उसने मुझे अपनी ओर घुमाया और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए.

‘उउउ उउउम्म म्म्म’ मैंने उसके गुलाब की पंखुड़ियों की तरह के प्यारे होंठों को पूरे जोश के साथ चूसना शुरू कर दिया।
मेरी जीभ उसके मुँह में इस तरह घूम रही थी मानो अंदर कुछ अजीब सी मिठास घुल रही हो।

करीब 5-7 मिनट टक हमारी चुमाचाटी चलती रही।
“आआआ आआहह चुऊऊ ऊम्म्म्म मायय!”
और मैंने उसके सिर को पकड़ा और उसकी पीठ को, कमर को बड़े बड़े चूतड़ों को अपने हाथों से सहला रहा था, दबा रहा था।

मैंने उसे उठाया और बिस्तर पर ले गया और उसे लेटा दिया.

फिर धीरे-धीरे एक-एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए।

मैंने बिना कुछ सोचे उसके पूरे शरीर को चाटना और चूसना शुरू कर दिया।

मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसके शरीर के हर एक अंग को चाटने और चूसने लगा। कभी उसके मुंह को चाटता तो कभी गर्दन को … फिर उसके चूचों को दबाता ओर नौच लेता।
उसने भी मेरा साथ दिया. वो मुझे चूम रही थी।

मैंने उसे अपने ऊपर लिया और अपना लोड़ा निकाला और उसे दे दिया।
वो मेरे बड़े और तने हुए लोड़े को देख कर बहुत खुश हुई और उसे हाथ में पकड़ कर हिलाना शुरू कर दिया।

‘आआआ आआआ आहहह …’ उसके हाथ में क्या जादू था … ‘ऊउउ उम्म ममम … आआ आअ ह्हह …’

और अचानक उसने मेरा लोड़ा चाटना शुरू कर दिया.

मैंने उसका सर पकड़ कर अपना लंडा उसके मुँह में डाल दिया और वो रांड की तरह मेरे लंड को मुँह में आगे पीछे करने लगी।
उसके गले से गुं … गुं … की आवाज आने लगी.

मैं और तेजी से उसके मुख को चोदने लगा।

उसका पूरा मुंह मेरे लंड से भर गया था. फिर भी वो मेरा लोड़ा लगातार चूसे जा रही थी.

जब मैं झाड़ने को हुआ तो मैंने अपना लोदा उसके मुंह में से निकालना चाहा लेकिन उसने मेरा लोदा छोड़ा ही नहीं … तो मैंने अपना सारा माल उसके मुख में ही उड़ेल दिया।

वो बड़ी खुशी से सारा माल गटक गई।

अब मेरी बारी थी.
तो मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी टांगों के बीच आ गया. उसकी चूत किसी स्वर्ग के दरवाजे की तरह मेरा इंतज़ार कर रही थी।

उसकी चूत पर बहुत छोटे छोटे बाल थे क्जैसे 4-5 दिन पहले उसकी जाह्नते साफ़ की हों.

मैंने उसकी चूत को अपनी दो उँगलियों से खोला और अपनी जीभ को उसमें घुसा दिया.

उसके मुख से एकदम सिसकारियां निकलने लगी- वम्म्म आआआ आह्ह अम्म् म्म्ह्ह!

मुझे भी बहुत मजा अ रहा था- अम्म्म म्म्ह्ह्ह!
क्या स्वाद था उसकी चूत का- उम्म्म म्म्म्म!

मैंने उसके गोरे नर्म चूतड़ों के नीचे एक तकिया लगा दिया ताकि उसकी चूत के ऊपर आकर उसे चाटने में मज़ा आए।

फिर मैंने उसकी चूत के लबों को खोला और अपनी पूरी जीभ से मैं उसकी चूत को चूसने चाटने लगा।
उसके हाथ मेरे सर पर थे और वो मेरे सर को अपनी चूत में दबा रही थी.
और उसके मुँह से सिसकारियाँ निकालने लगी।

यह कहानी भी पड़े  कमसिन साली की मस्त चुत चुदाई

जैसा ही मैंने उसकी चूत को खूब जोर जोर से चूसा, उसने मेरा सिर अपनी चूत पर बहुत जोर से दबाया.
थोड़ी देर के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा मुँह उसकी चूत के रस से भर गया।

सारा रस मैंने पी लिया और अपनी उंगली उसकी चूत में डालने लगा.
मैंने अपनी उंगली में रस लिया और अपनी उंगली उसके मुँह में डाल दी.
वो मेरी उंगली को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी और अपनी ही चूत के पानी का मजा लेने लगी।

अब मैं उठा और उसकी चूत को बजाने के लिए!

अपने लंड को हिलाते हुए मैं उसके सामने आ गया और लंड को चूत से टकरा कर रगड़ने लगा.
जिससे वो उचक गई।

मैंने थोड़ा सा थूक लगाया और लंड को उसके मुँह में डाल कर गीला किया और फिर उसकी चूत में डालने की कोशिश की।

मेरे लंड का सुपारा चिकनी चूत में घुस गया और उसकी चीख निकल गई- आआआ आ आओह … हहांह … हहाह …हहहो!

मैंने तुरंत अपने होंठ उसके होठों के ऊपर रख दिए और उसकी चीखें दबा दी।
उसे बहुत दर्द हो रहा था.

लेकिन अब मैं उसे छोड़ने वाला नहीं था।

ऐसे ही कुछ देर में उसके ऊपर रहा उसके होंठों को चूमने लगा. मेरे हाथ उसके चूचों मसल रहे थे।

कुछ देर में उसने अपनी गांड हिलाई.
तो मैं समझ गया कि वो अब लंड का मजा लेने के लिए तैयार थी।

मैंने उसे दबाया और फिर से धक्का दिया जिससे मेरा आधा लोड़ा उसकी चूत को फाड़ता हुआ अंदर समा गया.
और वो फिर से चीखने लगी और मुझे अपने ऊपर से हटाने के लिए धक्का देने लगी।

परन्तु मैं उसके ऊपर चढ़ा हुआ था, मैंने उसे कस के जकड़ रखा था ताकि वो कहीं जा न सके.

मैंने जोरों से उसके स्तन दबाए, मैंने उसके निप्पल को उँगलियों से मसलने लगा।
अपने होंठों से मैंने उसके होंठ बंद कर दिए।

उसके आंसू निकल आए।
शायद उसने इतना बड़ा लंड कभी नहीं लिया था.

लेकिन मैंने उसकी चूत मारना जारी रखा। मैं धीरे धीरे चूत में लंड अंदर बाहर करने लगा।
अब उसने भी अपनी गांड को हिलाना और मेरा साथ देना शुरू कर दिया।

अब वो भी मस्ती में आ गई और उछलने लगी और बोलने लगी- ओओ ओओह मीत फाड़ दो आज मेरी चुत को! जोर जोर से चोदो मुझे!

उसके ऐसे बोलते ही मेरा लंड और सख्त हो गया.
फिर मैंने उसके चूचे पकड़े और घपाघप चूत चोदने लगा।

कुछ देर बाद वो झड़ चुकी थी. उसकी चूत से पानी निकलने लगा और चूत लंड के घर्षण से फच फच की आवाज गूंजने लगी।

वो बोलने लगी- ओओओ ओऔऔ मीत ममम मस्त चोद रहे हो! और डालो अंदर … मेरी चूत का भोसाड़ा बना डाललौ उममययम्!

मैंने उसे जोर से और जोर से धक्का देना शुरू कर दिया।

15 मिनट तक चोदने के बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी और आखिर में मैंने उसकी चूत में ही मेरा सारा माल छोड़ दिया.

मेरे गर्म गर्म वीर्य के फव्वारे चूत में जाते ही वो अकड़ गई. मुझसे चिपक कर वो भी मेरे साथ ही झड़ गई।

फिर मैंने अपना लोड़ा निकाल के उसके मुँह में दिया और उसने सारा लंड चाट चाट के साफ कर दिया।

उसके बाद इन 2 दिनों में मैंने उसे कई बार हर एक पोजिशन में जवान लड़की की चुदाई की.

लेकिन मैं उसकी गांड नहीं मार पाया।

कोई बात नहीं … जिसकी चूत चोद ली है तो उसकी गांड भी एक ना एक दिन मिलने की आस होती ही है।

मेरी जवान लड़की की चुदाई कहानी आपको कैसी लगी? कमेंट्स में जरूर बताइए मुझे!
धन्यवाद.

error: Content is protected !!


porn bhabhi ko nind me ghused diyasex bhaji kahaniwww. toshation techaer sex vediuo.c hindeमेरे जेठजी ने मुझे इतना चोदा कि मेरी बुर से खुन निकल आयाकलाश रूम मे चुत कहानीrajsharma.ki.beti.chudai.kahaniरोज तुझसे चुदवाऊँगी भाभी की चुदाई वीडियो साड़ी ब्लाउज मुझे bnyan pehene huy पेटीकोटपहला सेख्स अनुभवsex story suhagrat bhai ke mote lund s chudiससुर बहु का सेक्स बाबूजी धीरे डाला नामेरी मम्मी के चहरे में सुबह मुस्कान थी सेक्स स्टोरीgujrati bhabhi sex storybas ki bhid me masi ki gand par land ghisaCHODU SASUR KA LAND CHUDAKAR CHU KE BUR ME GUSAबुर केला घुशाGoa antarvasnaपति ने रांड बनाया जबरदस्ती/train-mai-chudai-ki-kahani-11/antarvasna dost bayenNew gals xxx kamwali indanपुजा दिदी और नेहा दीदी की नंगी चुतmeri girlfriend Radha ki chudai ki kahani HindiMausi ko choda ma ki samniहिंदी सेक्से स्टोरी सिस्टर को बालकोनीsexbaba mabetaka pyar hindichudai kahaniya compuaabe.phoh.lav.storeकसी गांड़ चोदीBeti ko khus kiya cxxx kahanianagi.aurat.chodyta.dakha.khaniWww.pagal ka sat hindi sex store.comsaxy कहानी हिंदी chuddaker priwardada ke samne poti ki chudai kahaniभाभी को पटककर जबरदस्ती चोदाई कीmai nahi jhel paugi itna lumba.chudaiभिखारी NE चाची ki chudaimeri biwi ki chudaiदेहातीलडकी काबुरwww.antervasanasexstory.combyan ki chachi chudaikamukta .com chudai ki khani bap betiDelvre ki chot se aane ki khneyamang ne sindoor sex storytamna ki chudai sex story in hindi part1चूतnew indiyan aintarvasna stori mommuslim sex stories hindiसदी के बाद में दीदी को सोते स्पर्म अंदर पेलाचची की पेटीकोट का नाड़ाकिराएदार वाली बड़ी गांड वाली च****antarvasna suhagrat chudai dobara manaiBiwi ki roleplay chudiaबहन की अंग प्रदर्शन की कहानियाँBoor chuchi lund ka photokahani antervasna पपा मम्मी सेक्स स्टोरीkachre bali gand sex story hindiफटि चुत मोटा लँड सेकसी विडियो/kachi-umar-ki-kamukta/2/kirayedar rasoi me chudai antarvasnasex ka juyare sex kahaneसोतेली बहन की चुदाईMusicals chudai kahaniप्यार मैं फंसा कर की मेरी गैंगबैंग चुदाईअपने दोस्त की माँ को चोदाRita bhabi dud pilya sex khaniyaअनजाने में माँ की चुदाईkuware land ki kraname hindi khaniPatipatnisexstory.छोटी बहन को चोदाBhabhi bani randi aur 3 betiyo ko bhi choda